ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान की प्रथम मुख्य प्रशासिका मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती के 54वें पुण्य स्मृति दिवस पर पुष्पांजली कार्यक्रम आयोजित


पूर्व डीजीपी व सूचना आयोग के कमिश्नर सहित गणमान्य नागरिकों ने अर्पित किए श्रद्धासुमन
*24 जून, भोपाल (नीलबड़)।*
ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान की प्रथम मुख्य प्रशासिका मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती (मम्मा) का 54वां पुण्य स्मृति दिवस मनाया गया। नीलबड़ स्थित सुख-शांति भवन में आयोजित पुष्पांजली कार्यक्रम में शहर के गणमान्य नागरिकों सहित बीके भाई-बहनों ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए मम्मा के कार्यों को याद किया। 24 जून 1965 को मम्मा अपना पुराना शरीर छोड़ अव्यक्त हो गईंthe थीं।
कार्यक्रम में सुख-शांति भवन की डायरेक्टर राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी नीता दीदी ने कहा कि मम्मा त्याग-तपस्या और प्रेम की साक्षात् मूरत थीं। आपका एक-एक कर्म अनुकरणीय और प्रेरणादाई था। आपकी सेवाभावना, लगन और तपस्या देखकर संस्थान के संस्थापक पिताश्री ब्रह्मा बाबा ने आपको मुख्य प्रशासिका के रूप में बागडोर सौंपी। इस ईश्वरीय विश्व विद्यालय के नियम व मर्यादाओं को स्थापित करने, उनका पालन करने में आप सबसे आगे रहीं। कैसी भी परिस्थिती आई पर आपने निडरता, साहस और धैर्यता के साथ सामना किया। मम्मा का जीवन वात्सल्य और ममतामयी स्नेह का मिसाल था। आप रात में 2 बजे से उठकर योग-साधना करतीं थीं। आपने अल्पायु में ही कठोर योग-साधना से इतना सक्षम बना लिया था कि आपके संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति योग की शक्ति को महसूस करता था।
पूर्व डीजीपी व सूचना आयोग के कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि आज हम एक ऐसे महान व्यक्तित्व के पुण्य स्मृति दिवस कार्यक्रम में उपस्थित हुए हैं जिनका जीवन योग-साधना की एक मिसाल था। जिन्होंने मूल्य और आध्यात्म के नए कीर्तिमान स्थापित किए। ऐसी महान आत्मा को अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं। शारदा विहार स्कूल के डायरेक्टर अजय शिवहरे ने कहा कि मैं लंबे समय से ब्रहमाकुमारीज संस्थान से जुड़ा रहा हूं। यहां की शिक्षाओं से व्यक्ति का जीवन पूरी तरह से बदल जाता है।
नाटक से मम्मा का जीवन दर्शन दिखाया…
कार्यक्रम के दौरान बी के डाक्टर अंकिता मार्गदर्शन में छोटे- बच्चों व बालिकाओं ने मातेश्वरी जगदम्बा के जीवन से जुड़ी खास घटनाओं को नॄर्त नाटक के माध्यम से दर्शाया। समापन पर ब्रह्माभोजन का आयोजन किया गया। साथ ही सभी ने मम्मा के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजली दी।
फोटो- कार्यक्रम में उपस्थित नगर के गणमान्य नागरिकगण व बीके भाई-बहनें।
फोटो- संबोधित करते हुए सुख-शांति भवन की डायरेक्टर राजयोगिनी बीके नीता दीदी।